Breaking Newsअन्य राज्यअपराधआगराइंदौरइलाहाबादउज्जैनउत्तराखण्डगोरखपुरग्राम पंचायत बाबूपुरग्वालियरछत्तीसगढ़छुपा रुस्तमजबलपुरजम्मू कश्मीरझारखण्डझाँसीदेशनई दिल्लीपंजाबफिरोजाबादफैजाबादबिहारमथुरामध्यप्रदेशमनोरंजनमहाराष्ट्रमहिलामेरठमैनपुरीयुवाराजनीतिराजनीतीराजस्थानराज्यरामपुररीवालखनऊविदिशासतनासागरहरियाणाहाथरसहिमाचल प्रदेशहोम

*पूनम अंकुर छाबड़ा ने कहा गहलोत सरकार शराब बंदी पर ठोस रणनीति बनाये, नहीं तो करूंगी अनशन*

जिला धौलपुर राजस्थान

Screenshot_20200815-061634_KineMaster
Screenshot_20200815-044407_KineMaster
Screenshot_20200815-045652_KineMaster
Screenshot_20200812-105855_Video Player
Screenshot_20200812-105852_Video Player
Screenshot_20200803-131711_Gallery
IMG-20200716-WA0003
20200702_183822
20200702_183822
Advertisment
Advertisment
Screenshot_20200815-061100_KineMaster
Screenshot_20200815-060346_KineMaster
Screenshot_20200815-055739_KineMaster
PicsArt_02-02-07.05.47
20210416_072426
Screenshot_20200815-061634_KineMaster Screenshot_20200815-044407_KineMaster Screenshot_20200815-045652_KineMaster Screenshot_20200812-105855_Video Player Screenshot_20200812-105852_Video Player Screenshot_20200803-131711_Gallery IMG-20200716-WA0003 20200702_183822 20200702_183822 Advertisment Advertisment Screenshot_20200815-061100_KineMaster Screenshot_20200815-060346_KineMaster Screenshot_20200815-055739_KineMaster PicsArt_02-02-07.05.47 20210416_072426

 

गहलोत सरकार शराब बंदी पर ठोस रणनीति बनाये, नहीं तो करूंगी अनशन- पूनम अंकुर छाबड़ा।
जयपुर ( धर्मेन्द्र बिधौलिया )
राज्य सरकार ने शराबबंदी पर लिखित जवाब दिया है कि प्रदेश में शराबबंदी नही होगी, जिसका “जस्टिस फ़ॉर छाबड़ा” की राष्ट्रीय अध्यक्ष
पूनम अंकुर छाबड़ा ने कड़ा विरोध जताया है।

इस फ़ैसले से शराबबंदी समर्थकों में भारी नाराजगी है। शराबबंदी समर्थकों ने आंदोलन के साथ-साथ नशामुक्ति अभियान, महिलाओं को जाग्रत करने जैसे कई अभियान चलाये हैं। आज प्रदेश में नशे के कारण दुष्कर्म व अपराध कई गुणा बढ़ गए हैं।
गत दिनों एक 4 साल की बिटिया को नशे में धुत व्यक्ति ने अपना शिकार बनाया था जो आज हमारे बीच नहीं रही। ऐसी घटनाएं लगातार सामने आ रहीं हैं।

नशा करने वाले परिवार में बच्चियाँ सुरक्षित नही हैं। नशे के आदी व्यक्ति की पत्नी को घर-घर जाकर काम करना पड़ रहा है, उनके बच्चों को शिक्षा नहीं मिल पा रही है, इन महिलाओं को घरेलू हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है। ऐसी घटनाओं के बाद भी सरकार को राजस्व की चिंता है।

पूनम छाबड़ा ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री स्वयं को गाँधीवादी नेता कहलाना पसंद करते हैं,लेकिन पद चिन्हों पर चलते नहीं हैं। इन्हें गाँधी जी के पद चिन्हों पर चलना भी चाहिए।
जिन्हें जनता से ज्यादा राजस्व अर्जित करने की चिंता है।
पूनम अंकुर छाबड़ा ने माँग की है राज्य सरकार जल्द ही शराबबंदी पर ठोस रणनीति बनाये नहीं
तो शराबबंदी आंदोलन के लिए अपनी शहादत देने वाले हुतात्मा गुरूशरण छाबड़ा साहब के बलिदान दिवस 3 नवंबर से अनशन पर बैठ जाऊँगी।

 

राजस्थान स्टेट हैड धर्मेन्द्र बिधौलिया की रिपोर्ट।
Mo-8560857285,9414307812

Related Articles

Back to top button