Breaking Newsअन्य राज्यअपराधआर्टिकलइंदौरइलाहाबादउज्जैनउत्तराखण्डगोरखपुरग्राम पंचायत बाबूपुरग्वालियरछत्तीसगढ़छुपा रुस्तमजबलपुरजम्मू कश्मीरझारखण्डझाँसीदेशनई दिल्लीपंजाबफैजाबादबिहारभोपालमध्यप्रदेशमहाराष्ट्रमहिलामेरठमैनपुरीयुवाराजनीतिराजनीतीराजस्थानराज्यरामपुररीवालखनऊविदिशासतनासागरहरियाणाहाथरसहिमाचल प्रदेशहोम

*मनमानी करते हुए नजर आ रहे जयसिंहनगर के अधिकारी,कमिश्नर के आदेशों कि उड़ा रहे धज्जियां*

जिला शहडोल मध्य प्रदेश

Screenshot_20200815-061634_KineMaster
Screenshot_20200815-044407_KineMaster
Screenshot_20200815-045652_KineMaster
Screenshot_20200812-105855_Video Player
Screenshot_20200812-105852_Video Player
Screenshot_20200803-131711_Gallery
IMG-20200716-WA0003
20200702_183822
20200702_183822
Advertisment
Advertisment
Screenshot_20200815-061100_KineMaster
Screenshot_20200815-060346_KineMaster
Screenshot_20200815-055739_KineMaster
PicsArt_02-02-07.05.47
20210416_072426
Screenshot_20200815-061634_KineMaster Screenshot_20200815-044407_KineMaster Screenshot_20200815-045652_KineMaster Screenshot_20200812-105855_Video Player Screenshot_20200812-105852_Video Player Screenshot_20200803-131711_Gallery IMG-20200716-WA0003 20200702_183822 20200702_183822 Advertisment Advertisment Screenshot_20200815-061100_KineMaster Screenshot_20200815-060346_KineMaster Screenshot_20200815-055739_KineMaster PicsArt_02-02-07.05.47 20210416_072426

मनमानी करते जयसिंहनगर के अधिकारी,कमिश्नर के आदेशों कि उड़ा रहे धज्जियां

तो क्या ऐसे ही चलेगा तहसील के अधिकारियों कि मनमानी, आखिर कब तक परेशान होगा मजदूर किसान…?

कागजों में सफल आंकड़ों का खेल और अभियान धरातल में फेल..,

तो क्या कुम्भकर्णींय निद्रा सो रहे जयसिंहनगर तहसीलदार दीपक,आवेदन दिये 4 माह से ज्यादा समयावधि बीती, अब तक नहीं हुआ सीमांकन…?

रिपोर्टर :- संभागीय ब्यूरो चीफ

शहडोल/अमूमन, कई ऐसे मामले सामने आते रहे हैं, जिसमें जिले के अधिकारी वरिष्ठ आला अफसरों से योजनाओं के सफल क्रियान्वयन प्रदर्शित करने की जुगत में फर्जी जादुई आंकड़े प्रस्तुत कर वाहवाही लूटने का काम करते रहे हैं। तो वहीं दूसरी ओर इन आंकड़ों पर वरिष्ठों ने आंख मूंदकर विश्वास भी किया है।

जबकि वास्तविक हकीकत यह होती है कि धरातल में शासन की मंशा के अनुरूप योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं होता और लाभान्वित होने वाली जनता लाभ से वंचित और खुद को शोषित महसूस करती है।

मनमानी करते अधिकारी,संभागायुक्त के आदेशों कि उड़ा रहे धज्जियां

ऐसा ही कुछ वर्तमान परिवेश में प्रदर्शित है। जहां संभागीय मुखिया ने राजस्व सेवा अभियान में विशेष रूचि दिखाते हुए राजस्व मामले के निराकरण को लेकर समय सीमा में कार्य करने के निर्देश अधिनस्थ अधिकारियों को दिए हुए हैं।

लेकिन उनके इन निर्देशों के पालन किये जाने को लेकर अधीनस्थ विभागीय अमला कर्तव्यनिष्ठा और सजगता नहीं दिखा रहा है। निर्देशों में अमल करने की बजाय वर्तमान स्थिति में भी राजस्व अमला लापरवाही और अनदेखी कर रहा है। जिसके चलते राजस्व मामले में पीड़ित पक्षकार कार्यालय के चक्कर पर चक्कर काटने को मजबूर हैं।

हालांकि, संभाग में राजस्व विभाग ने बंटवारा, सीमांकन और नामांतरण जैसे प्रकरणों के निराकरण के आंकड़े प्रस्तुत कर राजस्व सेवा अभियान के प्रथम चरण को सफल बनाने कोशिश कर दिखाया है।

सूत्र बताते हैं कि, अगर इन निराकृत प्रकरणों की जांच कराई जाए तो आंकड़ों का सच स्वयं ही सामने आ जाएगा।

रामलखन शर्मा पिता स्व. रामदुलारे शर्मा निवासी, थाना व तहसील जयसिंहनगर, जिला शहडोल द्वारा तहसील कार्यालय जयसिंहनगर में आवेदन पत्र दिनांक 04.06.2021 को प्रस्तुत किया, जिसमें उन्होंने ग्राम जय. प.ह. जय. रा.नि.म. व तह. जयसिंहनगर, जिला – शहडोल म.प्र. में स्थित आराजी खसरा नं. 1973/4 रकवा 0.101 एवं ग्राम खुशरवाह प.ह. कतिरा की आराजी खसरा नं. 758/1/क रकवा 0 475, 1204 रकवा 1.627हे. भूमि का सीमांकन कराये जाने की मांग की।

स्थिति यह है कि, चार माह से ज्यादा समय बीत चुका है लेकिन आवेदक सीमांकन की बाट अब तक जोह रहा है।

कार्य आवेदनों पर और मिल रही धमकियां

आवेदक रामलखन ने बताया कि, आवेदन के बाद तहसीलदार के आदेशानुसार दिनांक 16.07.2021 को राजस्व निरीक्षक व हल्का पटवारी मौके पर नाप करने गये लेकिन सुरेश रैदास पिता भोला रैदास, निवासी ग्राम खुशरवाह के द्वारा मौके पर विवाद किया गया और यह कहा गया कि मैं जमीन नापने नही दूंगा।

इस जमीन में मेरा कब्जा है और नहीं भी है तो मैं कब्जा कर लूँगा। सुरेश सरहद्दी भूमिस्वामी नहीं है, वह शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा किया है।

वहीं जन धन के बल पर नाजायज रूप से आवेदक के सम्पूर्ण आराजियात पर कब्जा करने के फिराक में है।

हद तो तब हो गई थी, जब राजस्व निरीक्षक व हल्का पटवारी द्वारा सीमांकन कार्य यह जाने के दौरान खुली चुनौती देते हुए सुरेश ने यह कहा कि जो भी जमीन को नाप कराएगा या नापेगा तो मैं उसके हाथ पैर काट दूंगा। ऐसी स्थिति में मौके पर गम्भीर वारदात/विवाद होने की संभावना है।

आवेदक ने उल्लिखित आराजियात का सीमांकन पुलिस बल व वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में कराये जाने की मांग की।

इन आंकड़ों पर फरमायें गौर

जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी किए गए समाचार के मुताबिक संभाग के कुल 20 हजार 459 राजस्व प्रकरणों के निराकरण किये गये हैं।

जिसमें अविवादित नामातंरण के 14 हजार 185 प्रकरण, अविवादित बटवारा के 01 हजार 973 प्रकरण, 04 हजार 301 किसानों की भूमि का सीमाकंन, 2 हजार 106 किसानों को निःशुल्क खसरे की प्रतियां मुहैया कराना, 2 हजार 233 किसानों को संशोधित भू अधिकार पुस्तिका भी मुहैया कराना और 2164 गांवों में बी-01 का वाचन कराना भी कराया जाना शामिल है।

इनका कहना है

आप मुझे मामला व्हाट्सएप पर भेजिऐ मै दिखवाती हूं।

वंदना बैद्य
कलेक्टर शहडोल

मै तहसीलदार से बाद करता हूं मामले को दिखवाता हूं।

दीलीप पाण्डेय
एस.डी.एम जयसिंहनगर

Related Articles

Back to top button