Breaking Newsअन्य राज्यआगराइंदौरइलाहाबादउज्जैनउत्तराखण्डगोरखपुरग्राम पंचायत बाबूपुरग्वालियरछत्तीसगढ़जबलपुरजम्मू कश्मीरझारखण्डझाँसीदेशनई दिल्लीपंजाबफिरोजाबादफैजाबादबिहारभोपालमथुरामध्यप्रदेशमहाराष्ट्रमेरठमैनपुरीयुवाराजस्थानराज्यरामपुररीवालखनऊविदिशासतनासागरहरियाणाहिमाचल प्रदेशहोम

शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर 9 हजार से अधिक लोगों की नि: शुल्क की गई जांच

भोपाल जिला मध्य प्रदेश

शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर 9 हजार से अधिक लोगों की नि: शुल्क की गई जांच

(पढिए राजधानी एक्सप्रेस न्यूज़ हलचल आज की सच्ची खबरें)

भोपाल में विश्व उच्च रक्तचाप दिवस के अवसर पर शुक्रवार को कलेक्टर कार्यालय, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यालय सहित सभी स्वास्थ्य संस्थाओं में जांच, परामर्श एवं जागरूकता शिविर आयोजित किए गए।

इन शिविरों में 9212 लोगों की रक्तचाप की जांच हुई।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यालय में आयोजित शिविर में 132 लोगों की स्क्रीनिंग की गई, जिनमें से ब्लड प्रेशर के 26 नए मरीज मिले है। इनमें से दो मरीज 30 वर्ष से कम उम्र के मिले हैं।

कलेक्टर कार्यालय में आयोजित शिविर में 265 लोगों की जांच की गई जिनमें से 67 लोगों में उच्च रक्तचाप की समस्या पाई गई।

सभी को ब्लड प्रेशर नियमित जांच, फॉलोअप, खान पान और लाइफ स्टाइल में सुधार की सलाह दी गई।

शिविरों में उच्च रक्तचाप के लक्षणों की पहचान,उच्च रक्तचाप नियंत्रण एवं बचाव की जानकारी भी दी गई।

भोपाल के 14 श्रमिक पीठों पर आयोजित किए जा रहे विशेष शिविरों में 1819 श्रमिकों की ब्लड प्रेशर की जांच की गई। इस वर्ष यह दिवस “Measure Your Blood Pressure Accurately, Control it, Live Longer” की थीम पर मनाया जा रहा है।

आयुष्मान आरोग्य मंदिरों में जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने हेतु दैनिक क्रियाकलापों , भोजन, व्यायाम, तनाव प्रबंधन के संबंध में जानकारी प्रदान करने हेतु पोस्टर प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

साथ ही स्थानीय स्तर पर उपलब्ध खाद्य पदार्थों से पौष्टिक एवं लो कोलेस्ट्रॉल व्यंजन बनाने की प्रतियोगिता आयोजित की गई ।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भोपाल डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया कि उच्च रक्तचाप साइलेंट किलर माने जाने वाली बीमारी है। यह बीमारी युवाओं में भी देखने को मिल रही है।

इसका प्रमुख कारण अनियमित जीवनशैली, शारीरिक श्रम का अभाव, तनाव सिगरेट , बीड़ी, तंबाकू , शराब का उपयोग करना है।

उच्च रक्तचाप, मधुमेह , मोटापा, उच्च कोलेस्ट्रॉल जैसी बीमारियों से ग्रस्त लोगों में ह्रदय रोग होने की संभावना भी बढ़ जाती है। उच्च रक्तचाप के उपचार के लिए शासन द्वारा सभी दवाइयां निशुल्क उपलब्ध हैं।

यह दवाइयां जिला चिकित्सालय से लेकर हेल्थ एंड वैलनेस केंद्रों पर चिकित्सकीय परामर्श के अनुसार दी जाती है।

असंचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत सभी शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में ब्लड प्रेशर व मधुमेह की नि:शुल्क जांच की जाती है।

आहार एवं जीवन शैली को नियमित करने के साथ ही नियमित रूप से ब्लड प्रेशर एवं मधुमेह की जांच करवाना हर व्यक्ति के लिए बेहद जरूरी है। हृदय रोग संबंधी बीमारियां युवा वर्ग में भी दिखाई दे रही है

इसलिए 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी रक्तचाप की नियमित रूप से जांच करवाना जरूरी है।

भोपाल जिले में संचालित आईएचसीआई कार्यक्रम अंतर्गत 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की ब्लड प्रेशर की जांच सभी शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में नि:शुल्क की जाती है।

Related Articles

Back to top button
राजधानी एक्सप्रेस न्यूज़